PSC GS ATOM

A Complete free Guidance to get a PSC white collar job.We provides Study Materials , important points based on exam syllabus. Which we think our readers shoud not miss. For any PSC exams, we provide NCERT Based notes, study material, Current Affairs, Daily News, History, Geography,Polity,Economy,Science notes, Model Papers and all other study material which is important for UPPCS, SSC, UPSC, MPPSC, BPSC, RPSC, RO/ARO and other state Exam.

Breaking

Sunday, May 27, 2018

introduction OF BIOLOGY

biology logo , classification of biology
  
  • नवजात शिशु की 3 माह तक की आयु के अध्ययन को नियोनेटोलॉजी कहा जाता है। 
  • मनुष्य में परजीवी ग्रसन पैदा करने वाले कृमियों के अध्ययन को हेल्मिन्थोलॉजी कहा जाता है। 
  • विषों के अध्ययन को टॉक्सिकोलॉजी कहा जाता है। 
  • किसी जैव -यौगिक के , प्रकिण्व (एंजाइम ) प्रयोग द्वारा अपघटन की प्रक्रिया को किण्वन (फर्मेंटेशन ) कहा जाता है। 
  • एक्सो -जीव  विज्ञान में मुख्यतः बाह्य ग्रहों तथा अंतरिक्ष परतों पर जीवन का अध्ययन किया जाता है। 
  • पक्षियों के अध्ययन को ओर्निथोलोजी कहा जाता है। 
  • ह्रदय और उसकी बिमारियों के अध्ययन से संबंधित विज्ञान को कार्डियोलॉजी कहा जाता है। 
  • फाइकोलॉजी में शैवाल का अध्ययन किया जाता है। 
  • मानव जाति वनस्पति -विज्ञान,  वनस्पति विज्ञान की वह शाखा है जिसका अध्ययन क्षेत्र जनजातीय औषधि से संबंधित पौधे हैं। 
  • प्राणियों के वैज्ञानिक नाम लिखने में लैटिन भाषा का  प्रयोग  किया जाता है। 
  • मधुमक्खी पालन को एपीकल्चर कहा जाता है। 
  • जंतु विज्ञान में जीवित और मृत दोनों जानवरों का अध्ययन किया जाता है। 
  • फूलों के अध्ययन को एन्थोलॉजी कहा जाता है। 
  • कीटों के वैज्ञानिक अध्ययन को एंटोमोलॉजी कहा जाता है। 
  • जनांकिकी विषय जनसंख्या एवं मानव जाति के महत्वपूर्ण आंकड़ों के अध्ययन से संबंधित है। 
  • विभिन्न संस्कृतियों के वैज्ञानिक विवरण के तुलनात्मक अध्ययन को इथनोलॉजी कहते हैं। 
  • जैविक जगत में होने वाले कार्य ,गुण व पद्धति के अध्ययन के इस ज्ञान को मशीनी जगत में उपयोग करने को बायोनिक्स कहा जाता है। 
  • रेशम कीट पालन को सेरीकल्चर कहा जाता है। 
  • लेक्सिकोग्राफी का संबंध  शब्दकोश के संयोजन से है। 
  • सब्जी के लिए काम आने वाले पौधों के अध्ययन को ओलरीकल्चर कहा जाता है। 
  • अंगूर के उत्पादन पद्धति को विटीकल्चर कहा जाता है। 
  • वर्मीकल्चर में प्रयुक्त वर्म ,अर्थ वर्म होता है। 
  • जेरोन्टोलॉजी , वृद्धों के अध्ययन से संबंधित है। 
  • जेनेटिक्स में आनुवंशिकता और विचरण का अध्ययन किया जाता है। 
  • पेडोलोजी में मिट्टी  का अध्ययन किया जाता है। 
  • लिथोट्रिप्सी में गुर्दे की पथरी को किरणों द्वारा तोड़ दिया जाता है। 
  • स्टार फिश मछली नहीं होती है। 
  • कैटफ़िश एक वास्तविक मछली है। 
  • समुद्री घोड़ा भी एक वास्तविक मछली है। 
  • गर्म रुधिर वाले जंतु वे होते हैं जो अपने शरीर  तापक्रम को हमेशा एक सा बनाए रखते हैं। 
  • चमगादड़ उड़ने वाला स्तनपायी है। 
  • सील भी एक स्तनपायी है। 
  • एम्फीबिया जल एवं स्थल दोनों पर ही रह सकने वाले पशुओं के बारे में बताता है। 
  • जानने की इच्छा प्रकट करना - गुण मनुष्य को वानरों के गुणों से अलग करता है। 
  • लंगूर कपि नहीं होता है। 
  • सबसे बड़ा अकशेरूकी  स्कविड है। 
  • मकड़ी कीट से भिन्न होती है क्यूंकि मकड़ी में 8 टांगे पाई जाती हैं। 
  • सर्पों की विष ग्रंथियां , कशेरुकी प्राणियों के लार ग्रंथियों के सामान होते  हैं। 
  • चट्टान पर उगने वाले पादप शैलोदभिद कहलाते हैं। 
  • घटपर्णी एक कीटहारी पादप है। 
  • घटपर्णी का पत्ता ही घट के रूप में रूपांतरित होता है। 
  • निपेंथिस ख़ासियाना (घटपर्णी ) नामक दुर्लभ एवं आपातीय  पौधा पाया जाता है। 
  • हल्दी के पौधे का खाने लायक हिस्सा प्रकंद होता है। 
  • लीची को एकबीजी बेरी प्रजाति में रखा जाता है। 
  • यदि किसी उभयलिंगी पुष्प में , पुमंग और जायांग अलग अलग समय पर विकसित होते हैं तो इस तथ्य को भिन्नकाल पक्वता कहा जाता है। 
  • शकरकंद का संग्रह अंग तना नहीं होता है। 
  • कवकमूल कवकों और उच्चतर पदकों की जड़ों के बीच उपयोगी प्रकार्यक साहचर्य है। 
  • फलीदार पादपों की जड़ों में उपस्थित गांठों में पाए जाने वाले नाइट्रोजन स्थिरीकरण जीवाणु सहजीवी होते हैं। 
  • कॉर्क, क्वेकर्स के पेड़ से प्राप्त होता है। 
  • लहसुन की अभिलक्षणिक गंध उसमें उपस्थित सल्फर योगिक के कारण होती है। 
  • जीवन चक्र की दृष्टि से पौधे का सबसे महत्वपूर्ण अंग पुष्प है। 
  • लाल मिर्च उसमें उपस्थित कैप्सेसिन के कारन तीखी होती है। 
  • कुनैन जो मलेरिया के लिए एक प्रमुख औषधि है वह आवृतबीजी पौधे से प्राप्त होता है। 
  • कुनैन , सिनकोना पेड़ की छाल से प्राप्त की जाती है। 
  • सिनकोना की छल से प्राप्त कुनैन के प्रयोग को क्लोरोक्विन कृत्रिम औषधि ने प्रतिस्थापित किया है। 
  • डायटम समूह के जीवों का डूबने से हुई मौत का पता लगाने में बहुत ही महत्व है। 
  • ट्रिटिकेल एक मानव निर्मित धान्य है जो प्रकृति में नहीं पाया जाता है। 
  • सूक्ष्म जीवाणु (बैक्टीरिया ) को कम्पाउंड खुर्दबीन से देखा जा सकता है। 
  • एपिफाइट्स वे पौधे होते हैं जो अन्य पौधों पर यांत्रिक अवलम्ब के लिए निर्भर होते हैं। 
  • अर्किबैक्टीरिया के एक समूह को उत्पादन के लिए मेथेन का उपयोग किया जाता है। 
  • जमी हुई झील के अंदर मछली जीवित रह सकती है क्योंकि तलों के निकट पानी नहीं जमता है। 
  • सेब फल में लाली का कारण एंंथ्रोसायनिन होता है। 
  • टमाटर में लाल रंग का कारण लाइकोपिन होता है। 
  • लाइकेन कवक और शैवाल का मिश्रित जीव होता है। 
  • अफीम पोस्ट पौधे के अधपके फल से प्राप्त किया जाता है। 

No comments:

Post a Comment

Recent Post

GUPTA EMPIRE

मौर्य सम्राज्य के विघटन के बाद भारत में दो बड़ी राजनैतिक शक्तियां उभर कर आई सातवाहन और कुषाण।  सातवाहनों ने दक्षिण में स्थायित्व प्रद...